Suresh Chiplunkar Online

Just another weblog

43 Posts

137 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2416 postid : 44

राष्ट्रीय मीडिया के "देशद्रोही" कश्मीर के स्वायत्तता प्रस्ताव पर चुप क्यों हैं?

  • SocialTwist Tell-a-Friend

प्रधानमंत्री जी ने कश्मीर मुद्दे पर सभी दलों की जो बैठक बुलाई थी, उसमें उन्होंने एक बड़ी गम्भीर और व्यापक बहस छेड़ने वाली बात कह दी कि “यदि सभी दल चाहें तो कश्मीर को स्वायत्तता दी जा सकती है…”, लेकिन आश्चर्य की बात है कि भाजपा को छोड़कर किसी भी दल ने इस बयान पर आपत्ति दर्ज करना तो दूर स्पष्टीकरण माँगना भी उचित नहीं समझा। प्रधानमंत्री द्वारा ऑफ़र की गई “स्वायत्तता” का क्या मतलब है? क्या प्रधानमंत्री या कांग्रेस खुद भी इस बारे में स्पष्ट है? या ऐसे ही हवा में कुछ बयान उछाल दिया? कांग्रेस वाले स्वायत्तता किसे देंगे? उन लोगों को जो बरसों से भारतीय टुकड़ों पर पल रहे हैं फ़िर भी अमरनाथ में यात्रियों की सुविधा के लिये अस्थाई रुप से ज़मीन का एक टुकड़ा देने में उन्हें खतरा नज़र आने लगता है और विरोध में सड़कों पर आ जाते हैं… या स्वायत्तता उन्हें देंगे जो सरेआम भारत का तिरंगा जला रहे हैं, 15 अगस्त को “काला दिवस” मना रहे हैं? किस स्वायत्तता की बात हो रही है मनमोहन जी, थोड़ा हमें भी तो बतायें।

इतने गम्भीर मुद्दे पर राष्ट्रीय मीडिया, अखबारों और चैनलों की ठण्डी प्रतिक्रिया और शून्य कवरेज भी आश्चर्य पैदा करने वाला है। प्रधानमंत्री के इस बयान के बावजूद, मीडिया क्या दिखा रहा है? 1) शाहरुख खान ने KKR के लिये पाकिस्तानी खिलाड़ी को खरीदा और पाकिस्तान के खिलाड़ियों का समर्थन किया… 2) राहुल गाँधी की लोकप्रियता में भारी उछाल…, 3) पीपली लाइव की लॉंचिंग… आदि-आदि-आदि। आप कहेंगे कि मीडिया तो बार-बार कश्मीर की हिंसा की खबरें दिखा रहा है… जी हाँ ज़रूर दिखा रहा है, लेकिन हेडलाइन, बाइलाइन, टिकर और स्क्रीन में नीचे चलने वाले स्क्रोल में अधिकतर आपको “कश्मीर में गुस्सा…”, “कश्मीर का युवा आक्रोशित…”, “कश्मीर में सुरक्षा बलों पर आक्रोशित युवाओं की पत्थरबाजी…” जैसी खबरें दिखाई देंगी। सवाल उठता है कि क्या मीडिया और चैनलों में राष्ट्रबोध नाम की चीज़ एकदम खत्म हो गई है? या ये किसी के इशारे पर इस प्रकार की हेडलाइनें दिखाते हैं?

कश्मीर में गुस्सा, आक्रोश? किस बात पर आक्रोश? और किस पर गुस्सा? भारत की सरकार पर? लेकिन भारत सरकार (यानी प्रकारान्तर से करोड़ों टैक्स भरने वाले) तो इन कश्मीरियों को 60 साल से पाल-पोस रहे हैं, फ़िर किस बात का आक्रोश? भारत की सरकार के कई कानून वहाँ चलते नहीं, कुछ को वे मानते नहीं, उनका झण्डा अलग है, उनका संविधान अलग है, भारत का नागरिक वहाँ ज़मीन खरीद नहीं सकता, धारा 370 के तहत विशेषाधिकार मिला हुआ है, हिन्दुओं (कश्मीरी पण्डितों) को बाकायदा “धार्मिक सफ़ाये” के तहत कश्मीर से बाहर किया जा चुका है… फ़िर किस बात का गुस्सा है भई? कहीं यह हरामखोरी की चर्बी तो नहीं? लगता तो यही है। वरना क्या कारण है कि 14-15 साल के लड़के से लेकर यासीन मलिक, गिलानी और अब्दुल गनी लोन जैसे बुज़ुर्ग भी भारत सरकार से, जब देखो तब खफ़ा रहते हैं।

जबकि दूसरी तरफ़ देखें तो भारत के नागरिक, हिन्दू संगठन, तमाम टैक्स देने वाले और भारत को अखण्ड देखने की चाह रखने वाले देशप्रेमी… जिनको असल में गुस्सा आना चाहिये, आक्रोशित होना चाहिये, नाराज़ी जताना चाहिये… वे नपुंसक की तरह चुपचाप बैठे हैं और “स्वायत्तता” का राग सुन रहे हैं? कोई भी उठकर ये सवाल नहीं करता कि कश्मीर के पत्थरबाजों को पालने, यासीन मलिक जैसे देशद्रोहियों को दिल्ली लाकर पाँच सितारा होटलों में रुकवाने और भाषण करवाने के लिये हम टैक्स क्यों दें? किसी राजदीप या बुरका दत्त ने कभी किसी कश्मीरी पण्डित का इंटरव्यू लिया कि उसमें कितना आक्रोश है? लाखों हिन्दू लूटे गये, बलात्कार किये गये, उनके मन्दिर तोड़े गये, क्योंकि गिलानी के पाकिस्तानी आका ऐसा चाहते थे, तो जिन्हें गुस्सा आया होगा कभी उन्हें किसी चैनल पर दिखाया? नहीं दिखाया, क्यों? क्या आक्रोशित होने और गुस्सा होने का हक सिर्फ़ कश्मीर के हुल्लड़बाजों को ही है, राष्ट्रवादियों को नहीं?

लेकिन जैसे ही “राष्ट्रवाद” की बात की जाती है, मीडिया को हुड़हुड़ी का बुखार आ जाता है, राष्ट्रवाद की बात करना, हिन्दू हितों की बात करना तो मानो वर्जित ही है… किसी टीवी एंकर की औकात नहीं है कि वह कश्मीरी पण्डितों की दुर्गति और नारकीय परिस्थितियों पर कोई कार्यक्रम बनाये और उसे हेडलाइन बनाकर जोर-शोर से प्रचारित कर सके, कोई चैनल देश को यह नहीं बताता कि आज तक कश्मीर के लिये भारत सरकार ने कितना-कुछ किया है, क्योंकि उनके मालिकों को “पोलिटिकली करेक्ट” रहना है, उन्हें कांग्रेस को नाराज़ नहीं करना है… स्वाभाविक सी बात है कि तब जनता पूछेगी कि इतना पैसा खर्च करने के बावजूद कश्मीर में बेरोज़गारी क्यों है? पिछले 60 साल से कश्मीर में किसकी हुकूमत चल रही थी? दिल्ली में बैठे सूरमा, खरबों रुपये खर्च करने बावजूद कश्मीर में शान्ति क्यों नहीं ला सके? ऐसे असुविधाजनक सवालों से “सेकुलरिज़्म” बचना चाहता है, इसलिये हमें समझाया जा रहा है कि “कश्मीरी युवाओं में आक्रोश और गुस्सा” है।

इधर अपने देश में गद्दार किस्म का मीडिया है, प्रस्तुत चित्र में देखिये “नवभारत टाइम्स अखबार” फ़ोटो के कैप्शन में लिखता है “कश्मीरी मुसलमान महिला” और “भारतीय पुलिसवाला”, क्या मतलब है इसका? क्या नवभारत टाइम्स इशारा करना चाहता है कि कश्मीर भारत से अलग हो चुका है और भारतीय पुलिस(?) कश्मीरी मुस्लिमों पर अत्याचार कर रही है? यही तो पाकिस्तानी और अलगाववादी कश्मीरी भी कहते हैं… मजे की बात तो यह कि यही मीडिया संस्थान “अमन की आशा” टाइप के आलतू-फ़ालतू कार्यक्रम भी आयोजित कर लेते हैं। जबकि उधर पाकिस्तान में उच्च स्तर पर सभी के सभी लोग कश्मीर को भारत से अलग करने में जी-जान से जुटे हैं, इसका सबूत यह है कि हाल ही में जब संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान किं मून ने कश्मीर के सन्दर्भ में अपना विवादास्पद बयान पढ़ा था (बाद में उन्होंने कहा कि यह उनका मूल बयान नहीं है)… असल में बान के बयान का मजमून बदलने वाला व्यक्ति संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान का प्रवक्ता फ़रहान हक है, जिसने मूल बयान में हेराफ़ेरी करके उसमें “कश्मीर” जोड़ दिया। फ़रहान हक ने तो अपने देश के प्रति देशभक्ति दिखाई, लेकिन भारत के तथाकथित सेकुलरिज़्म के पैरोकार क्यों अपना मुँह सिले बैठे रहते हैं? जमाने भर में दाऊद इब्राहीम का पता लेकर घूमते रहते हैं… दाऊद यहाँ है, दाऊद वहाँ है, दाऊद ने आज खाना खाया, दाऊद ने आज पानी पिया… अरे भाई, देश की जनता को इससे क्या मतलब? देश की जनता तो तब खुश होगी, जब सरकार “रॉ” जैसी संस्था के आदमियों की मदद से दाऊद को पाकिस्तान में घुसकर निपटा दें… और फ़िर मीडिया भारत की सरकार का अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर गुणगान करे… यह तो मीडिया और सरकार से बनेगा नहीं… इसलिये “अमन की आशा” का राग अलापते हैं…।

दिल्ली और विभिन्न राज्यों में एक “अल्पसंख्यक आयोग” और “मानवाधिकार आयोग” नाम के दो “बिजूके” बैठे हैं, लेकिन इनकी निगाह में कश्मीरी हिन्दुओं का कोई मानवाधिकार नहीं है, गलियों से आकर पत्थर मारने वाले, गोलियाँ चलाने वालों से सहानुभूति है, लेकिन अपने घर-परिवार से दूर रहकर 24 घण्टे अपनी ड्यूटी निभाने वाले सैनिक के लिये कोई मानवाधिकार नहीं? मार-मारकर भगाये गये कश्मीरी पण्डित इनकी निगाह में “अल्पसंख्यक” नहीं हैं, क्योंकि “अल्पसंख्यक” की परिभाषा भी तो इन्हीं कांग्रेसियों द्वारा गढ़ी गई है। मनमोहन सिंह जी को यह कहना तो याद रहता है कि “देश के संसाधनों पर पहला हक मुस्लिमों का है…”, लेकिन कश्मीरी पंडितों के दर्द और लाखों अमरनाथ यात्रियों के वाजिब हक के मुद्दे पर उनके मुँह में दही जम जाता है। वाकई में गाँधीवादियों, सेकुलरों और मीडिया ने मिलकर एकदम “बधियाकरण” ही कर डाला है देश का… देशहित से जुड़े किसी मुद्दे पर कोई सार्थक बहस नहीं, भारत के हितों से जुड़े मुद्दों पर देश का पक्ष लेने की बजाय, या तो विदेशी ताकतों का गुणगान या फ़िर देशविरोधी ताकतों के प्रति सहानुभूति पैदा करना… आखिर कितना गिरेगा हमारा मीडिया?

अब जबकि खरबों रुपये खर्च करने के बावजूद कश्मीर की स्थिति 20 साल पहले जैसी ही है, तो समय आ गया है कि हमें गिलानी-यासीन जैसों से दो-टूक बात करनी चाहिये कि आखिर किस प्रकार की आज़ादी चाहते हैं वे? कैसी स्वायत्तता चाहिये उन्हें? क्या स्वायत्तता का मतलब यही है कि भारत उन लोगों को अपने आर्थिक संसाधनों से पाले-पोसे, वहाँ बिजली परियोजनाएं लगाये, बाँध बनाये… यहाँ तक कि डल झील की सफ़ाई भी केन्द्र सरकार करवाये? उनसे पूछना चाहिये कि 60 साल में भारत सरकार ने जो खरबों रुपया दिया, उसका क्या हुआ? उसके बदले में पत्थरबाजों और उनके आकाओं ने भारत को एक पैसा भी लौटाया? क्या वे सिर्फ़ फ़ोकट का खाना ही जानते हैं, चुकाना नहीं?

गलती पूरी तरह से उनकी भी नहीं है, नेहरु ने अपनी गलतियों से जिस कश्मीर को हमारी छाती पर बोझ बना दिया था, उसे ढोने में सभी सरकारें लगी हुई हैं… जो वर्ग विशेष को खुश करने के चक्कर में कश्मीरियों की परवाह करती रहती हैं। ये जो बार-बार मीडियाई भाण्ड, कश्मीरियों का गुस्सा, युवाओं का आक्रोश जैसी बात कर रहे हैं, यह आक्रोश और गुस्सा सिर्फ़ “पाकिस्तानी” भावना रखने वालों के दिल में ही है, बाकियों के दिल में नहीं, और यह लोग मशीनगनों से गोलियों की बौछार खाने की औकात ही रखते हैं जो कि उन्हें दिखाई भी जानी चाहिये…, उलटे यहाँ तो सेना पूरी तरह से हटाने की बात हो रही है। अलगाववादियों से सहानुभूति रखने वाला देशभक्त हो ही नहीं सकता, उन्हें जो भी सहानुभूति मिलेगी वह विदेश से…। चीन ने जैसे थ्येन-आनमन चौक में विद्रोह को कुचलकर रख दिया था… अब तो वैसा ही करना पड़ेगा। कश्मीर को 5 साल के लिये पूरी तरह सेना के हवाले करो, अलगाववादी नेताओं को गिरफ़्तार करके जेल में सड़ाओ या उड़ाओ, धारा 370 खत्म करके जम्मू से हिन्दुओं को कश्मीर में बसाना शुरु करो और उधर का जनसंख्या सन्तुलन बदलो…विभिन्न प्रचार माध्यमों से मूर्ख कश्मीरी उग्रवादी नेताओं और “भटके हुए नौजवानों”(?) को समझाओ कि भारत के बिना उनकी औकात दो कौड़ी की भी नहीं है… क्योंकि यदि वे पाकिस्तान में जा मिले तो नर्क मिलेगा और उनकी बदकिस्मती से “आज़ाद कश्मीर”(?) बन भी गया तो अमेरिका वहाँ किसी न किसी बहाने कदम जमायेगा…, अन्तर्राष्ट्रीय बिरादरी की परवाह मत करो… पाकिस्तान जब भी कश्मीर राग अलापे, पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर का मुद्दा जोरशोर से उठाओ…ऐसे कई-कई कदम हैं, जो तभी उठ पायेंगे, जब मीडिया सरकार का साथ दे और “अमन की आशा” जैसी नॉस्टैल्जिक उलटबाँसियां न करे…।

लेकिन अमेरिका क्या कहेगा, पाकिस्तान क्या सोचेगा, संयुक्त राष्ट्र क्या करेगा, चीन से सम्बन्ध खराब तो नहीं होंगे जैसी “मूर्खतापूर्ण और डरपोक सोचों” की वजह से ही हमने इस देश और कश्मीर का ये हाल कर रखा है… कांग्रेस आज कश्मीर को स्वायत्तता देगी, कल असम को, परसों पश्चिम बंगाल को, फ़िर मणिपुर और केरल को…? इज़राइल तो बहुत दूर है… हमारे पड़ोस में श्रीलंका जैसे छोटे से देश ने तमिल आंदोलन को कुचलकर दिखा दिया कि यदि नेताओं में “रीढ़ की हड्डी” मजबूत हो, जनता में देशभक्ति का जज़्बा हो और मीडिया सकारात्मक रुप से देशहित में सोचे तो बहुत कुछ किया जा सकता है…

क्लिक करके कश्मीर से सम्बन्धित लेखक निम्न लेख अवश्य पढ़ें…

http://blog.sureshchiplunkar.com/2010/03/umar-abdullah-kashmir-stone-pelters.html

http://blog.sureshchiplunkar.com/2009/09/compensation-to-criminal-and-pension-to.html

http://blog.sureshchiplunkar.com/2008/07/kashmir-drastic-liability-on-india.html

http://blog.sureshchiplunkar.com/2008/07/kashmir-issue-india-pakistan-secularism.html

| NEXT



Tags:       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 2.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

7 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

subhash के द्वारा
August 17, 2010

aapka har sabd reality hai par aise napunsak p m se kya ummid kre jo apne pad ko meherbani samjh rha hai jis sarkar ke minister ek dusre ki tang khinchne lage ho kya ummid hai bharat ko bachne ke liye bhartiyata jagne ki jarurat hai ye kaam bhartendu harischander jaise desbhakt paterkar kar sakte hai ham sab ko apna 2 jamir tatolana hoga nahin to vo din door nahin jab des rasatal main chla jayega

Aakash Tiwaari के द्वारा
August 17, 2010

नमस्कार सुरेश जी आपने जिस मुद्दे को उठाया है मै उस विषय पर बहुत दिनों से सोच रहा था लेकिन लिखने का मौका नहीं मिला,अच्छा हुआ की मैंने कुछ लिखा नहीं क्योंकि मै आपके जैसा शशक्त लेख शायद ही कभी लिख सकता. आज हमारे लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ मीडिया का राजनीतिकरण हो चुका है और सभी सिर्फ अपने चैनल को टॉप पर देखना चाहते है कोई भी चैनल ऐसा नहीं है जो ऐसा ज्वलंत और गम्भीर मुद्दा उठाये अरे ये तो केवल अगर सामाजिक स्थिति पर ही चर्चा कर दें तो बहुत है. इसमें गलती हम पब्लिक की भी है. अच्छा बहुत अच्छा लेख…आकाश

NIKHIL PANDEY के द्वारा
August 17, 2010

सुरेश जी नमश्कार ..लेख काफी लम्बा था पर विषय और विचार इतने महत्वपूर्ण थे की २ बार लेख को पढ़ा मैंने ..बहुत महत्वपूर्ण और ज्वलंत मुद्दा है….और आपके प्रश्न बहुत प्रासंगिक है … राष्ट्रवादी मीडिया मर चूका है ….आज जिसे हम देखते है वह बाजार के इशारो पर नाचने वाला शोर मचाने वाला एक तंत्र है जिसे इसकी परवाह नहीं की एक राष्ट्र की संप्रभुता खतरे में पड़े ..,, ये कांग्रेस ने देश को अपनी जागीर समझ लिया है ..और अन्य पार्टियों के साथ विपक्ष भी नाकारा हो चूका है ये कहने में मुझे कोई आपत्ति नहीं है …आखिर देश की दलाली में सभी को कुछ मिलेगा ही …और हो सकता है की मिल भी रहा हो..वरना ६३ सालो में हम कश्मीर में खरबों रुपये लगाकर भी भीख नहीं मांग रहे होते …..आपने सही कहा उन राष्ट्रद्रोहियो में जो गुस्सा है वह उसी हरामखोरी की चर्बी से उपजा है ..जो मुफ्त में बात दी गई…. हम एक नाकारा सरकार द्वारा शाशित है जो आतंरिक मोर्चे पर भी हाथ बंधे खड़ी है और बहरी मोर्चो पर भी , कश्मीर मुद्दे पर आरपार के निर्णय लिए जाने की जरुरत है इसके लिए हमें निरंकुश होना पड़े तो भी आगे बढ़कर राष्ट्रद्रोहियो की जबाने खीच कर तालिबानी सजाये देनी चाहिए….. अन्यथा हम इस नासूर से कभी उबार नहीं पाएंगे…… समाधान की जगह टालने की प्रवृत्ति कबतक चलेगी?

atharvavedamanoj के द्वारा
August 16, 2010

साधुवाद सुरेश जी हम और आप तो चुप नहीं है,यू ही चीखते रहिये. मैं भी चिल्ला रहा हूँ, शायद बहरों को सुनाई पड़ जाए. और अगर नहीं सुनते है तो भुगतेंगे, http://www.atharvavedamanoj.jagranjunction.com

ravindrakkapoor के द्वारा
August 16, 2010

साधुवाद .   आँखें खोलने का प्रयास करने के लिये साधुवाद …..रवीन्द्र

ravindrakkapoor के द्वारा
August 16, 2010

A brilliant piece of expressions on the burning issue of Kashmir. It is well planned strategy of Pakistan to cut Kashmir from India and we are watching our 5 thousand years old heritage getting spoiled by elements, who do not want peace in Kashmir and their supporters who are blindly trying to find a solution of this problem by giving more and more freedom to Kashmir. Let us be one to implement only one law in India without any distinction and favor. India needs a bold and courageous leader, who can take care of anti India elements in Kashmir and alse where in India also. It’s a blackmail created by our neighbor. Let the Indian be one on this issue without caring for any other country or person. My good wishes with all those who want to make a strong India, where every one should be treated as an Indian only without cast creed religion and states. Ravindra K Kapoor

आर.एन. शाही के द्वारा
August 16, 2010

आपका हर लेख आईने की तरह सच्चाई दिखाते हुए कल्पनालोक की फ़ंतासी से खींचकर बाहर निकालने का पुरज़ोर प्रयास करता आया है । परन्तु हम ऐसे मानने वाले हैं कहाँ? आदत हो चुकी है कि आग जब तक हमारे बेडरूम के पलंग को न जलाना शुरू कर दे, बाढ़ अपने छप्पर को न लीलने लगे, ट्रेन और बस में डकैत का हाथ जब तक अपनी बीवी के दामन तक न पहुँच जाय, तब तक हमारा पुंषत्व (यदि कोई है तो) समाधिस्थ ही रहता है । कभी-कभी ग्लानिवश ऐसा लगता है कि कुछ लोगों का यह विचार, कि उस समय अभी हमारी मानसिकता आज़ादी पाने के क़ाबिल नहीं थी, समय से कुछ पूर्व ही पेड़ फ़लित हो गया, शायद ठीक ही है । आँखें खोलने का प्रयास करने के लिये साधुवाद । … शाही ।


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran